आरता Haryanvi Lok Geet

आरता Haryanvi Lok Geet

आरता Haryanvi Lok Geet
आरता Haryanvi Lok Geet

आरता

ऐ थाम ल्याओ नी हल्दी की गाँठ, गोरा मुखड़ा चीतीयां जी
ऐ थाम लावो ना जीरी के चावल, गोरा मुखड़ा चातियां जी
ऐ थाम ल्याओ नी पलटै की स्याई, नैना सुरमा सारीयां जी
ऐ थाम ल्याओ नी रामचन्द्र के पूत, गोरा मुखडा चीतीयां जी

गीत मरमठ का

मैं तुझे पूछंू म्हारा लाडला थारे मुख पर मरवट कुण चित्या ।
म्हारे ए शहर में भुवा ऐ बसत म्हारे मुख पर मरवट उन चित्या
मै तुझे पूछंू मेरा लाडला, थारा नैणां सुरमा किन सारा
म्हारा ए बीरा के म्हारी भाभी ओ रानी म्हारा नैणां सुरमा उनसारा
मै तुझे पूछूं म्हारा लाडला, थारा हाथा महँदा कुण राच्या
म्हारे घर में म्हारी चाची ओ रानी, म्हारा हाथ महँदा उन राच्या

कंगना

कंगनवा रस बरसे, मेरी लाडो का अचल सुहाग। कंगनवा रस बरसे ।।
मन के बंध कंगन के फंदे, सखी बन्दी बन गया प्यार ।। कंगनवा--
ज्यांे-ज्यों गाँठ खुले कंगने की, त्यों-त्यों गाँठ कसे प्रिय मन की
खुलें प्यार के द्वार ।। कंगनवा रस--
बन्नी लाड़ली है सुकुमारी, रसिया बड़े गँवार ।। कंगनवा रस बरसे

आरता करने का गीत-1

एक डाल छोटा, पेड़ मोटा, कर ऐ बड-गोत्तन आरता
दूर देषों से मनै, बुआ बुलाई, कर ऐ सुहागण आरता
आरता मैं तो करै ना जानूँ, क्युँकर कीजो बहनो आरता
ऐ हाथ हीरा गोद बीरा, कर ऐ सुहागण आरता
ऐ हाथ कसीदा, गोद भतीजा, कर ऐ सुहागण आरता
हाथ लोटा, गोद बेटा, कर ऐ सुहागण आरता
आरतड़ा का मैं तो हार लूंगी-लूंगी जबरक झूमका
आरतड़ा का मैं तो भैंस लूंगी ऊपर लूंगी पछेडीयाँ
औडै तो दौडै़ म्हारे महल मालिया, बीच बहन का ओबरा
औडै तो दौडै़ म्हारै कँवर खेलै, बिच खेलै भोले भान्जे
मैं थाने कहूँ म्हारे सुगना ओ साहिब, बीच बहन ना बासियो
सुन-सुन ऐ धण, ओछा बोल न बोलियो,
बहन है मेरी माँ की जाई सांगर सटै ग©रीधण घणी
सांगर ओ सायबां जाड़ा कै लागै, धनका लागै रुपये मोकला

गीत आरता का -2

ऊँचा पीपल, पड़ी ऐ पँजाली, कर ऐ सुहागण आरता
ऐ आरतड़ा मैं तो कर ऐ ना जानू, क्यँुकर कीजो बहनो आरता
मैं तो दूरै देषां सै मेरी ननद बुलाई, आरतड़ा समझाईयों
ऐ गोरी-गोरी बईयां मै हरा हरा चुड़ला, कर ऐ सुहागण आरता
तीखे-तीखे नैना मे, झीणा-झीणा सुरमा कर ऐ सुहागण आरता
ऐ हाथ हीरा गोद बीरा, कर ऐ सुहागण आरता
धरदे हीरा बिठा दे बीरा, कर ऐ सुहागण आरता
ऐ हाथ कसीदा, गोद भतीजा, कर ऐ सुहागण आरता
हाथ लोटा, गोद बेटा, कर ऐ सुहागण आरता
ऐ धरदे लोटा, बिठा दे बेटा, कर ऐ सुहागण आरता
'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();

Below Post Ad